भीनमाल: आबकारी निरीक्षक खुद बेपरवाह, इसलिए ठेकेदारों के ठाठ

भीनमाल: आबकारी निरीक्षक खुद बेपरवाह, इसलिए ठेकेदारों के ठाठ
Spread the love


– आवाजाही तक उसी रास्ते से, लेकिन मनमर्जी नजर नहीं आ रही

भीनमाल. आबकारी विभाग के अंतर्गत जालोर में विभागीय अधिकारियों की लापरवाही परवान पर है और उन्हें ठेकेदारों की मनमर्जी नजर नहीं आती। यही नहीं आम आदमी को शराबियों के जमावड़े के चलते हो रही परेशानी भी इन्हें दिखाई नहीं दे रही।

यही कारण है कि शराब के ठेकों को बार बनाने के मनमर्जी के प्रारूप पर किसी अधिकारी की नजर नहीं जा रही। दूसरी तरफ धड़ल्ले से इन शराब की दुकानों पर नियम कायदों का ही नहीं कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन भी किया जा रहा है। इन नियम विरुद्ध चल रहे अवैध शराब बिकवालों पर किसी तरह की कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा रही, जबकि सभी ठेकों पर अनियमितताएं है।

बेची नहीं परोसी जा रही

मद्य संयम नीति नहीं भीनमाल में विभाग की मेहरबानी से मद्य बढ़ाओ नीति से काम चल रहा है और इसमें विभागीय अधिकारी पूरी सहभागिता निभा रहे हैं। सभी छह समूह समेत देसी के समूहों पर दुकानों के अंदर बिठाकर शराब की बिकवाली की जा रही है। यही नहीं यहां पर शराब की दुकानों के आस पास भी शराब के शौकीनों का जमावड़ा यहां से गुजरने वाले लोगों की परेशानी का कारण बनता है।

उलझ गए थे शराबी

सबसे खास बात यह है कि दो दिन पूर्व ही ठेके से बार बने ठेके पर शराबियों के दो समूह उलझ गए थे। इस दौरान शराब ठेकेदार और वहां मौजूद लोगों ने बीच बचाव कर मामले को शांत किया। लेकिन हकीकत ये है कि इन ठेकों पर रोजाना ही ऐसे हालात बनते हैं। सीधे तौर पर इन ठेकों पर शराबियों की भीड़ इसके लिए जिम्मेदार है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.