इस मौत पर बड़ा सवाल, पुलिस का मौन समझ से परे

इस मौत पर बड़ा सवाल, पुलिस का मौन समझ से परे
Spread the love


भीनमाल में मार्बल गोदाम में संदिग्ध अवस्था में लटका मिला था शव, हत्या का मामला दर्ज हुआ था

जालोर. भीनमाल थाना क्षेत्र के अंतर्गत पिछले साल सितंबर माह में युवक की संदिग्ध मौत के प्रकरण में हत्या की संभावनाओं के बीच मामला दर्ज होने के बाद पुलिस की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में है। पहले स्तर पर मर्ग दर्ज होने के बाद मृतक के भाई द्वारा हत्या की आशंका जताते हुए प्रकरण दर्ज करवाया गया था।

इसमें आरोपियों के नामजदगी भी पुलिस के सामने पेश कर दी गई थी, लेकिन पुलिस थाना प्रभारी द्वारा मामले में लीपापोती की गई और छह माह से मामला कागजों में रेंग रहा है और पुलिस ने कार्रवाई के नाम पर कुछ भी नहीं किया है। पुलिस पर ढिलाई के आरोप के बाद मृतक के भाई ने मामले के खुलासे के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन पेश किया।

ज्ञापन में बताया गया है कि संदिग्ध मौत के प्रकरण में पिछले साल हत्या का मामला दर्ज हुआ था। प्रार्थी वचनाराम मेघवाल निवासी सेवड़ी ने बताया कि उसका ग्रेनाइट का व्यवसाय है और वह जालोर में निवास करता है। 9 सितंबर 2020 को सुबह उसे मोबाइल पर दलसिंह ने फोन कर बताया कि भीनमाल स्थित उसके मार्बल गोदाम में एक व्यक्ति का शव पेड़ पर लटक रहा है।

मौके पर शिनाख्त में सामने आया कि मृतक प्रार्थी का बड़ा भाई पारसाराम था। मौके पर पारसाराम पेड़ की पतली रस्सी से लटका हुआ था व उसके दोनों पांव जमीन को स्पर्श कर रहे थे। घटना में कई संदिग्ध पहलू थे। जिस पर अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या करने का प्रकरण दर्ज करवाया। पुलिस द्वारा मामले का खुलासा करने का आश्वासन दिया गया। पीएम में पारसाराम की मौत गला दबाने से होने की बात सामने आई। इस प्रकरण में पहले मर्ग दर्ज किया गया था, लेकिन बाद में हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया।

 

रिपोर्ट में संदिग्ध आरोपियों के नाम भी पुलिस को बताए जा चुके है। आरोप है कि इस मामले में पुलिस की ओर से ढिलाई बरती जा रही है। मामले में छह माह से अधिक का समय गुजरने के बाद पुलिस अब तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। मामले में गहन जांच के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की गई है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.