भरतपुर में 13 साल बाद नवंबर में मावठ, 2 घंटे में 5 मिमी बरसात; दो दिन और ऐसा ही रहेगा मौसम

भरतपुर में 13 साल बाद नवंबर में मावठ, 2 घंटे में 5 मिमी बरसात; दो दिन और ऐसा ही रहेगा मौसम
Spread the love


 

 

  • राजस्थान में साइक्लोन प्रभावी होने से बरसात हुई, शुक्रवार को भी ऐसा ही मौसम रह सकता है

  • शनिवार को बादल हटने और ठिठुरन बढ़ने के आसार, खेती के लिए अमृत के समान है ये बारिश

भरतपुर

बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान और वेस्टर्न डिस्टरबेंस के अफगानिस्तान से जम्मू कश्मीर की ओर बढ़ जाने के कारण पूर्वी राजस्थान में चक्रवात बन गया है। इससे गुरुवार सुबह 8 बजे बारिश का दौर प्रारंभ हो गया जो जारी है। करीब 2 घंटे में 5 एमएम बारिश हो चुकी है और फुहार अभी भी पड़ रही है। सुबह ठंड और धुंध के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा।

मौसम विशेषज्ञ आर के सिंह का कहना है कि निवार तूफान और पश्चिमी हवाओं के मिश्रित असर के कारण पूर्वी राजस्थान में साइक्लोन प्रभावी हो गया है। इसका असर शुक्रवार को भी रह सकता है। शनिवार से बादल छट जाएंगे और ठिठुरन शुरू हो जाएगी।

सुबह अपने कार्यस्थल जाने वाले लोगों को बारिश से परेशानी भी हुई।

सुबह अपने कार्यस्थल जाने वाले लोगों को बारिश से परेशानी भी हुई।

शादी वालों को हुई परेशानी लेकिन फसलों के लिए अमृत है यह बारिश

बारिश हो जाने के कारण शादी विवाह में जुटे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है किंतु यह बारिश खेती के लिए अत्यधिक लाभदायक है। कृषि वैज्ञानिक एके शर्मा का कहना है कि बारिश अमृत के समान है। इससे फसल के साथ ही सब्जियों की पैदावार में एकाएक तेजी आएगी। इससे सब्जियां भी सस्ती हो जाएंगी। इसका असर सब्जी बाजार में एक हफ्ते में ही दिखाई देगा।

अब आगे क्या: 2 दिन और रहेगा बारिश-बादल का माहौल

मौसम के जानकारों का कहना है कि बंगाल की खाड़ी से उठा तूफान गुरुवार को कमजोर पड़ जाएगा लेकिन वेस्टर्न डिस्टरबेंस जिसका केंद्र अफगानिस्तान में बना है, वह जम्मू कश्मीर की ओर बढ़ रहा है। इस कारण बादल-बारिश और बर्फबारी हो सकती है। इससे ठंड बढ़ जाएगी क्योंकि हवा का रुख उत्तरी दिशा का बना हुआ है जिससे ठिठुरन बढ़ेगी।

 

Source link

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.