जालोर में शराब की दुकानों के लिए पहले चरण की लॉटरी अब से कुछ ही देर बाद में

जालोर में शराब की दुकानों के लिए पहले चरण की लॉटरी अब से कुछ ही देर बाद में
Spread the love


  • – 34 दुकानों के लिए पहले दिन होगी नीलामी, सवेरे 11 बजे से शाम 4 बजे तक चलेगी प्रक्रिया

जालोर. आबकारी बंदोबस्त के तहत पहले चरण के लिए बुधवार को ई-नीलामी होगी। पहले चरण के लिए जालोर, सांचौर और भीनमाल सर्किल के लिए कुल 34 दुकानों के लिए ई-नीलामी होने वाली है। हाड़ेचा समूह को छोड़कर बाकी के लिए स्थिति ठीक ठाक रही है और इन समूहों के लिए ई-नीलामी के बाद स्थिति साफ हो जाएगी। सीधे तौर पर इन समूहों के लिए मंगलवार शाम तक कुल 82 आवेदन और अमानत राशि जमा हो चुकी थी। मंगलवार को होने वाली ई-नीलामी प्रक्रिया रोचक रहने की संभावना है।

कुल 144 समूह

पांच चरण में 144 समूहों के लिए ई-नीलामी होगी। मंगलवार तक इन समूहों के लिए 110 आवेदकों ने आवेदन शुल्क और अमानत राशि जमा करवाई। पहले चरण की ई-नीलामी 3 मार्च को होगी। दूसरे चरण के लिए 4 मार्च, तीसरे चरण के लिए 5 मार्च, चौथे चरण के लिए 9 मार्च और पांचवे चरण के लिए 10 मार्च को ई-नीलामी होगी।

नीलामी का अंतिम समय होगा रोचक

ई-ऑक्शन प्रक्रिया में 4 बजे पॉर्टल बंद हो जाएगा, लेकिन यदि कोई ठेकेदार अंतिम 10 मिनट में उच्चतर बोली लगा देता है तो बोली का अंतिम समय 10 मिनट तक बढ़ता चला जाएगा। वहीं बोली के शीर्ष तीन बोली दाताओं पर ही पूरा दारोमदार रहेगा।

यह बदलाव फायदेमंद

नई प्रक्रिया में आवेदकों का रुझान कम देखा गया है। इन हालातों में संशोधित आदेश के तहत अब अग्रिम वार्षिक गारंटी राशि 8 प्रतिशत के स्थान पर 5 प्रतिशत करने का निर्णय लिया गया है। इसी तरह धरोहर राशि 4 प्रतिशत के स्थान पर 2 प्रतिशत रहेगी। वहीं आवेदक को कुल वार्षिक राशि के 12 प्रतिशत के स्थान पर 7 प्रतिशत ही वित्तीय वर्ष के प्रारंभ में जमा करवाने होंगे।

जबकि कंपोजिट राशि एक मुश्त जमा कराने के स्थान पर दो किश्तों में 50 प्रतिशत राशि 31 मार्च 2021 तक तथा 50 प्रतिशत राशि 30 जून 2021 तक जमा करवानी होगी। इसी तरह अनुज्ञाधारी को न्यूनतम रिजर्व प्राइस से अधिक प्राप्त होने वाली राशि में इच्छानुसार भारत निर्मित विदेशी मदिरा एवं बीयर, देशी मदिरा से पूर्ति की सुविधा प्रदान की गई है।

अनुज्ञाधारी को यह भी विकल्प दिया गया है कि उसके द्वारा अधिक राशि की गारंटी पूर्ति नकद जमा कराने का प्रावधान भी दिया गया है। इस तरह अनुज्ञाधारी को नीलामी में बढ़ी हुई राशि के क्रम में यह छूट प्रदान होगी कि वह अपनी मांग अनुसार मदिरा, नकद जमा कराकर गारंटी पूर्ति कर सके। विदेशी मदिरा ब्रांड्स का भी भराव वार्षिक गारंटी राशि में समायोजित किया जाएगा।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.