NDA से रूठे बेनिवाल ने संसद की 3 समितियों से दिया इस्तीफा, गठबंधन पर फैसला 26 को

NDA से रूठे बेनिवाल ने संसद की 3 समितियों से दिया इस्तीफा, गठबंधन पर फैसला 26 को
Spread the love


  • 2 लाख समर्थकों संग 26 दिसंबर को करेंगे दिल्ली कूच

जयपुर

राजस्थान में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के एक मात्र सहयोगी दल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) के प्रमुख ने गठबंधन से अलग होने के संकेत दे दिए हैं। शनिवार को आरएलपी प्रमुख और नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने संसद की तीन अलग-अलग समितियों की सदस्यता से इस्तीफा देने की घोषणा की है। हालांकि एनडीए से गठबंधन रहेगा या नहीं इसका फैसला 26 दिसंबर को किया जाएगा।

कृषि कानून के विरोध में धरने पर बैठे किसानों का साथ देने के लिए आरएलपी प्रमुख ने 26 दिसंबर को दिल्ली कूच करने का एलान किया है। बेनीवाल 26 दिसंबर को 2 लाख समर्थकों के साथ दिल्ली के लिए रवाना होंगे। जयपुर में आज हुई एक बैठक के बाद बेनीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी किसानों के साथ हमेशा से खड़ी है और आगे भी रहेगी। उन्होंने बताया कि किसानों में केन्द्र के इस बिल को लेकर रोष है।

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में आरएलपी ने केन्द्र में एनडीए के साथ गठबंधन करते हुए राजस्थान की एक सीट पर चुनाव लड़ा था। नागौर से खुद पार्टी प्रमुख ने चुनाव लड़ा था, जिसमें वह बीजेपी के सहयोग से जीतकर संसद पहुंचे हैं। इससे पहले आरएलपी ने अकेले साल 2018 में विधानसभा चुनाव लड़ा था, जिसमें पार्टी को तीन सीटों पर जीत मिली थी।

इन तीन समितियों से दिया इस्तीफा

हनुमान बेनीवाल ने आज उद्योग संबंधी स्थायी समिति, याचिका समिति और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय की परामर्शदात्रि समिति से इस्तीफा देते हुए लोकसभा अध्यक्ष को ई-मेल कर दिया हैं। बेनीवाल ने इस्तीफे का प्रमुख कारण बाड़मेर में उन पर हुए हमले से जुड़े मामले में विशेषाधिकार हनन का मामला बना, जिसमें संसद के दखल के बाद भी एक साल तक मुकदमा दर्ज नहीं होना व कार्यवाही नहीं होना लिखा हैं। इसके अलावा उन्होंने अपने इस्तीफा पत्र में एक सीमेंट कंपनी को गलत तथ्य के आधार पर पर्यावरण स्वीकृति देने और राजस्थान से निकलने वाले कच्चे तेल से राज्य को मिलने वाली रॉयल्टी से राजस्थान को वंचित रखने पर भी नाराजगी जताई। उन्होंने बताया कि इन दोनों ही मुद्दों को मैंने समितियों के समक्ष रखा, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई अब तक नहीं हुई। ऐसे में मेरा मानना है कि इन समितियों का कोई औचित्य नहीं हैं।

विधानसभा चुनाव अलग से लड़ेंगे

एनडीए से गठबंधन तोडऩे के संकेत देने के साथ ही बेनीवाल ये भी एलान कि वह आगामी वर्ष 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव और अगले साल होने वाले तीन विधानसभा सीटों के उपचुनाव अकेले लडऩे की बात कही हैं। उन्होने साफ कहा कि हमारा गठबंधन लोकसभा चुनाव के लेवल पर हुआ है न कि विधानसभा चुनाव के स्तर पर।

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.