जालोर : कांग्रेस नेता को लॉरेंस विश्नोई ग्रुप की फोन पर धमकी—तुम्हारे नाम की सुपारी मिली है, क्या करना है…

जालोर : कांग्रेस नेता को लॉरेंस विश्नोई ग्रुप की फोन पर धमकी—तुम्हारे नाम की सुपारी मिली है, क्या करना है…
Spread the love


  • कांग्रेस के प्रदेश महासचिव सुल्तान खान भाटी को लगातार आ रहे है धमकी भरे फोन

जालोर

जालोर के जिले के सायला निवासी सुल्तान खान भाटी ने सायला पुलिस को एक रिपोर्ट पेश कर बताया कि उसे 31 मार्च से अलग—अलग ​नम्बरों से धमकी भरे फोन आ रहे है। जिसपर उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश महासचिव सुल्तान खान भाटी ने सायला थाने में एक रिपोर्ट पेश की है, जिसमें उन्होंने बताया कि 31 मार्च को करीब 4.15 बजे से उनके पास अलग—अलग मोबाइल नम्बर से धमकी भरे फोन आ रहे है। रिपोर्ट में बताया कि बार—बार फोन करके एक ही बात बार—बार कही जा रही है।

फोन पर धमकाते हुए कह रहा है कि मैं लॉरेंस​ विश्नोई ग्रुप से बोल रहा है, तुम्हारे नाम की सुपारी मिली है, तो क्या करना है। भाटी ने रिपोर्ट में बताया कि बार—बार फोन कर यही बात दोहराई जा रही है तथा मारने की धमकी दी जा रही है। भाटी ने रिपोर्ट में धमकी भरे फोन वाले सभी नम्बर देकर पुलिस से कॉल डिटेल निकलवाने तथा धमकी देने वाले शख्स के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की है।

कौन है लॉरेंस विश्नोई…

पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में लॉरेंस विश्नोई के नाम का आतंक है। पंजाब के फाजिल्का के अबोहर के रहने वाले लॉरेंस के पिता लविंद्र कुमार पंजाब पुलिस में कॉन्सटेबल रह चुके हैं। उसके पास पुश्तैनी जमीन के नाम पर करीब सात करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी है। उसने अबोहर के ही एक कॉन्वेंट स्कूल से 10वीं की पढ़ाई की है। आगे की पढ़ाई के लिए ये चंडीगढ़ के डीएवी स्कूल में चला गया और वहां से 12वीं पास की। इसके बाद उसने चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया।पढ़ाई के दौरान ही उसने अपना छात्र संगठन सोपू बनाया और उसके बैनर तले स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा। उसके सामने चुनावी मैदान में उदय सह और डग का ग्रुप था, जिससे लॉरेंस चुनाव हार गया।

 

फोटो — गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई

 

ऐसे रखा अपराध की दुनिया में कदम

स्टूडेंट चुनाव हारने के बाद चंडीगढ़ के सेक्टर 11 में फरवरी 2011 में एक दिन लॉरेंस और उसके विरोधी गुट का आमना-सामना हो गया। इस दौरान लॉरेंस ने उदय सह के ग्रुप पर फायरिंग कर दी। ये पहली बार था, जब लॉरेंस ने फायरिंग की थी। दूसरी तरफ से भी फायरिंग हुई। पुलिस ने जब केस दर्ज किया, तो उसमें लॉरेंस का भी नाम था। ये पहला मुकदमा था, जो लॉरेंस के नाम पर दर्ज हुआ था। इसके बाद से लेकर अब तक लॉरेंस पर करीब 50 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं, जिनमें से 30 में वो बरी हो चुका है।

जेल से आॅपरेट करता है गैंग

मार्च 2017 में राजस्थान के जोधपुर के डॉक्टर चांडक और एक ट्रैवलर को मारने के लिए 50 लाख की सुपारी ली। उसने फोन के जरिए ही डॉक्टर की बीएमडब्ल्यू कार में आग लगवा दी।इसके बाद जोधपुर पुलिस 30 अप्रैल 2017 को लॉरेंस को प्रोडक्शन रिमांड पर जोधपुर ले गई। जोधपुर में आने के बाद भी लॉरेंस ने मोबाइल के जरिए वसूली और धमरी का खेल जारी रखा। परेशान जोधपुर प्रशासन ने उसे 23 जून को अजमेर की घूघरा घाटी हाई सिक्योरिटी जेल में भेज दिया था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.