घुसपैठ के लिए आतंकियों ने नई राह खोजी, अब राजस्थान-गुजरात रूट से भी घुसने की कोशिश कर रहे

घुसपैठ के लिए आतंकियों ने नई राह खोजी, अब राजस्थान-गुजरात रूट से भी घुसने की कोशिश कर रहे
Spread the love


नई दिल्ली

भारत के खिलाफ साजिश रचने से पाकिस्तान बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान अब आतंकियों को भारत में दाखिल कराने के लिए जम्मू-कश्मीर और पंजाब के अलावा राजस्थान और गुजरात से घुसपैठ करने की फिराक में है। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) की ओर जारी आंकड़ों के हवाले से न्यूज एजेंसी ने बताया कि हाल के दिनों में घुसपैठ की घटनाओं में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

पिछले साल राजस्थान और गुजरात में घुसपैठ नहीं

पिछले साल नवंबर के पहले हफ्ते तक BSF ने राजस्थान और गुजरात बॉर्डर से घुसपैठ की कोई घटना रिकॉर्ड नहीं की। इस साल यहां घुसपैठ की कोशिशें हुई हैं। वहीं, BSF के कश्मीर फ्रंटियर ने इस साल बॉर्डर पर घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम किया था। पिछले साल नंवबर के पहले हफ्ते तक घुसपैठ की चार घटनाएं सामने आईं थीं।

BSF पूरी तरह मुस्तैद

अधिकारियों ने दावा किया कि पाकिस्तान भारत में आतंकी भेजने के लिए अलग रास्ते तलाश रहा है। हमारे जवान पूरी तरह मुस्तैद हैं और 24 घंटे बॉर्डर की निगरानी में लगे हुए हैं। उन्होंने बताया कि BSF अपने जवानों की पोजिशन इंटेलिजेंस इनपुट के हिसाब से लगातार अपडेट करते रहते हैं।

सबसे ज्यादा घुसपैठ जम्मू और पंजाब बॉर्डर से

BSF अधिकारियों ने बताया कि इस साल नवंबर के पहले हफ्ते तक 11 घुसपैठ की घटनाएं हुईं। घुसपैठ जम्मू, कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात से लगे बॉर्डर से की गई। इस साल जम्मू और पंजाब बॉर्डर से सबसे ज्यादा 4-4 घुसपैठ की घटनाएं रिकॉर्ड की गईं।

जुलाई में गुजरात-राजस्थान बॉर्डर पर की थी कोशिश

गुजरात-राजस्थान बॉर्डर पर रण ऑफ कच्छ से लगती सीमा पर जुलाई में 12-13 लोग घुसपैठ की फिराक में थे। घुसपैठियों को गश्त लगा रहे जवानों ने कई चेतावनी दी थी, लेकिन वह आगे बढ़ते ही गए। इसके बाद जवानों ने फायरिंग की, जिसमें एक घुसपैठिया तो मारा गया था, बाकी सभी वापस भागने में कामयाब हो गए थे।

नवंबर में 150 मीटर लंबी सुरंग मिली थी

जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में BSF ने इंटरनेशनल बॉर्डर पर 150 मीटर लंबी सुरंग का पर्दाफाश किया था। BSF ने एक घुसपैठिए को भी ढेर किया था। जम्मू में BSF के IG एनएस जामवाल ने बताया था कि इंटरनेशनल बॉर्डर पर इस सुरंग का मिलना यह साफ करता है कि पाकिस्तानी सेना आतंकियों की मदद कर रही है।

 

Source link

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.