कोविड वैक्सीन को लेकर शहर में दो जगह किया गया ड्राइ रन, चिकित्सा वॉलिंटियर हुए लाभान्वित

कोविड वैक्सीन को लेकर शहर में दो जगह किया गया ड्राइ रन, चिकित्सा वॉलिंटियर हुए लाभान्वित
Spread the love


  • कोरोना वैक्सीन 2 डिग्री से 8 डिग्री तापमान के बीच लगाई जा रही

झुंझुनूं

कोरोना वैक्सीन को लेकर चल रही तैयारियों के बीच झुंझुनूं में आज ड्राय रन (मॉक ड्रिल) किया गया। इससे पूर्व यह ट्रायल आठ अन्य जिलों में हो चुका है। बीडीके अस्पताल और इंडाली सीएचसी पर सुबह 9 बजे से ड्राइ रन शुरू हुआ।

2 से 8 डिग्री तापमान के बीच लगी कोरोना वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन 2 डिग्री से 8 डिग्री तापमान के बीच लगाई जा रही है। इसके लिए विभाग ने पहले ही तैयारी कर चुका है। आरसीएचओ डॉ. दयानंद सिंह ने बताया कि जिले में मुहैय्या कोल्ड बॉक्स 0 डिग्री सेल्सियस तापमान में वैक्सीन को 72 घंटे तक सुरक्षित रखा जा सकता है। इसे देखते हुए इसमें कोई परेशानी नहीं आएगी।

25 से 30 लोगों के साथ हुआ ड्राय रन

जिले में अभी दो स्थानों पर कोरोना वैक्सीन का ड्राय रन किया गया। इसमें एक दिन में 25 से 30 लोगों के साथ ड्राय रन हुआ। हर बार वैक्सीन को लेकर तैयारी देखी गई। सबसे पहले रजिस्ट्रेशन से जुड़ी औपचारिकता पूरी की गई। उसके बाद वैक्सीन आने और डाटा एंट्री की। इसके 30 मिनट तक वैक्सीन लगाने के बाद निगरानी रखी।

ये रही प्रक्रिया

  • टीका लगवाने वाला व्यक्ति का सबसे पहले एंट्री गेट पर गार्ड के पास सूची में नाम चेक किया गया।
  • इसके बाद रजिस्ट्रेशन एरिया में व्यक्ति की आईडी की जांच की गई। जहां हैंडवॉश एरिया भी बनाया गया है। जहां सॉफ्टवेयर से हेल्थ वर्कर का नाम, मोबाइल नंबर,आईडी प्रूफ, वेरिफिकेशन स्टेटस चेक किया गया।
  • जिसके बाद व्यक्ति को वेटिंग एरिया में बैठाया गया। 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति के लिए अलग व्यवस्था की गई है। यहां व्यक्ति से यह भी पूछा गया कि आपको वैक्सीनेशन की जानकारी है या नहीं और इसे अपनी मर्जी से लगवा रहे हैं।
  • इसके बाद वैक्सीनेशन एरिया में व्यक्ति के आने पर वैक्सीनेटर अफसर को पोर्टल से मिले मैसेज के आधार पर उसे वैक्सीन दी। वैक्सीन लगाने से पहले व्यक्ति को एक बार फिर इसके बारे में बताकर उसकी सहमति की जानकारी ली गई।
  • वैक्सीन लेने के बाद किसी को कोई दिक्कत होती है तो एक स्पेशल इमरजेंसी एरिया बनाया गया है। यहां छह डॉक्टरों की टीम मौजूद रही।
  • वीक्सीनेशन के बाद व्यक्ति को 30 मिनट तक ऑब्जरवेशन रूम में रुके। जहां वैक्सीन से कोई रिएक्शन या अन्य कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है, इसका पता लगाया गया।

 

 

Source link

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.