जालोर में इस अस्पताल की मनमर्जी देखिये, रास्ते पर ही कर डाला कब्जा

जालोर में इस अस्पताल की मनमर्जी देखिये, रास्ते पर ही कर डाला कब्जा
Spread the love


– शहर के नामी अस्पताल की मनमर्जी भारी, नियम कायदों का नहीं हो रहा पालन, पार्किंग स्पेस नहीं के बराबर, सड़क पर ही कर डाला कब्जा

जालोर. कोविड खतरे का दरकिनार करते हुए यह अस्पताल मनमर्जी से संचालित है। यहां किसी तरह की एडवाइजरी का पालन नहीं हो रहा है। हम बात कर रहे हैं शहर के रेलवे स्टेशन मार्ग स्थित जगदंबा अस्पताल की। जहां पर ये बेपरवाही देखने को मिल रही है। मामले में खास बात यह है कि यह अस्पताल मुख्य मार्ग पर स्थित है, लेकिन उसके बाद भी प्रशासन को यह बड़ी कमी नजर नहीं आ रही है। दूसरी तरफ यह अस्पताल मुख्य रूप से मातृ और शिशु रक्षक सेवाओं से जुड़ा होने का दावा करता है, लेकिन यहां कोविड गाइड लाइन की पालना नहीं हो रही और एडवाइजरी की धज्जियां उड़ाई जा रही है। इस अस्पताल परिसर में सवेरे 9 बजे से 12 बजे के बीच छोटे से स्पेस में 150 से 200 प्रसूताओं की भ्ीाड़ देखी जा सकती है।

यह मनमर्जी क्यों नजर नहीं आ रही

यह अस्पताल रेलवे स्टेशन मुख्य मार्ग पर स्थित है और यहां मरीजों और प्रसूताओं की आवाजाही अधिक रहती है। यह अस्पताल आवासीय क्षेत्र के नजदीक है। इस अस्पताल में दिनभर मरीजों की आवाजाही रहती है, लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने अपने स्तर पर पार्किंग के लिए कोई प्रबंध नहीं किया है। पार्किंग के नाम पर केवल जुगाड़ है, जो मुख्य मार्ग ही है। इन हालातों में यह मार्ग काफी संकरा हो जाता है और वाहन चालकों को दिक्कत भी होती है। कहीं न कहीं प्रबंधन की बेपरवाही को नगर परिषद प्रशासन और जिला प्रशासन नजर अंदाज कर रहा है, जो भविष्य के संकट का कारण बन सकता है।

सुरक्षा मानक में भी कमियंा

यह अस्पताल कम स्पेस में बना हुआ है और स्पेस भी कम है। अक्सर भीड़ भी जमा रहती है। यहां आपात कालीन एक्जिट की सुविधा भी नहीं है। कई मौकों पर ये देखा गया है कि ये हालात गंभीर हादसों और विकट स्थिति में गंभीर स्थितियां पैदा करते हैं।

पाबंद करने की जरुरत

यह अस्पताल पिछले करीब चार पांच साल से चल रहा है और कई बार शिकायत भी हो चुकी है, लेकिन आज तक कार्रवाई का इंतजार है। भविष्य में इस बेपरवाही के चलते विकट हालात बनते हैं तो उसके लिए जिम्मेदार कौन होगा यह विषय सोचनीय है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.