जालोर में सवालों के घेरे में बालक की मौत का मामला, अभी समझाइश पर माने परिजन

जालोर में सवालों के घेरे में बालक की मौत का मामला, अभी समझाइश पर माने परिजन
Spread the love


शंखवाली में बालक की हत्या के प्रकरण में समझाइश के बाद शव उठाने को राजी हुए परिजन

जालोर. भाद्राजून थाना क्षेत्र के शंखवाली गांव में स्कूली बालक की हत्या के प्रकरण में दूसरे दिन प्रशासन ने परिजनों से सहमति बनाकर शव परिजनों को सुपुर्द किया। इस घटनाक्रम में बता दें कि शंखवाली में घर से स्कूल के लिए गए बालक का शव गांव के तालाब के पास मिलने के बाद परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए कार्रवाई की मांग की थी।

वहीं पुलिस ने पोस्टमार्टम के दौरान शव को आहोर के राजकीय अस्पताल के मोर्चरी में रखवाया गया था, लेकिन परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया था। शनिवार को आहोर उपखंड मुख्यालय पर मीणा समाज व परिजनों ने मामले में आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर धरना दिया। इस दौरान पुलिस ने परिजनों व समाज के लोगों से समाज से समझाइश की। मीणा समाज ने पुलिस को मामले का खुलासा करने के लिए 7 दिन का अल्टीमेटम देने के साथ ही धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी है। पुलिस इस मामले को लेकर जांच में जुटी हुई है। धरनास्थल पर कांग्रेस नेता ऊमसिंह चांदराई ने भी मदद की। इस मौके आहोर से बसपा प्रत्याशी रहे पंकज मीणा व मीणा समाज के कई लोग मौजूद रहे।

यह था मामला

शंखवाली निवासी कालूराम पुत्र धीराराम मीणा का पुत्र लक्ष्मण छठी कक्षा में पढ़ता था। गुरुवार को वह घर से स्कूल के लिए गया था। शाम को वह घर नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी तलाश की। पूरे गांव में तलाश करने पर भी उसका कहीं पता पता नहीं लगा था। शुक्रवार सुबह गांव के लोगों ने सूचना दी कि गांव के तालाब के निकट एक शव पड़ा है। मौके पर पहुंचे परिजनों ने देखा तो लक्ष्मण का शव उल्टा पड़ा हुआ था। शव से कुछ ही दूरी पर उसका बस्ता भी पड़ा हुआ था। उसके सिर पर पत्थर से गंभीर चोट के निशान भी थे और गले पर भी चोट के निशान थे। वहीं खून से सना एक पत्थर भी पास में पड़ा था। ऐसे में सन्देह जताया जा रहा है कि आरोपियों की संख्या एक से अधिक भी हो सकती है। इस मामले की तत्काल प्रभाव से पुलिस को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। परिजन की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज कर पोस्टमार्टम करवाया, लेकिन दोपहर तक परिजन शव उठाने को राजी नहीं हुए थे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.