जालोर में ये थे कोयले के चोर, पकड़े गए

जालोर में ये थे कोयले के चोर, पकड़े गए
Spread the love


कोयले के अवैध कारोबार पर पुलिस कार्रवाई, 2 टे्रलर जब्त

जालोर. चितलवाना पुलिस ने शातिर कोयला चोर गिरोह को दबोचा है। मामले में 2 टे्रलर जब्त करने के साथ 3 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है। थाना प्रभारी अनु विश्नोई ने एनएच-68 पर अपेक्स अस्पताल के पीछे कार्रवाई की। अपेक्स अस्पताल के पीछे मानाराम पुत्र आसूराम विश्नोई निवासी रामद्वारा सिवाड़ा के प्लॉट में अवैध रूप से कोयला चोरी करने की सूचना पर दबिश दी गई।

यहां पर दो ट्रैलर कोयले खाली करते हुए दिखाई दिए। इस दौरान पुलिस पार्टी को देख कर बाङ़े में मौजूद तीन व्यक्तियों ने भागने का प्रयास किया। जिन्हें पुलिस ने दबोच लिया। पूछताछ में दस्याब किए गए युवकों ने अपनी पहचान इकबालसिंह पुत्र जीतसिंह जट सिख निवासी बाघा पुराना पुलिस थाना बाघा पुराना जिला मोगा पंजाब, सरणप्रीतसिह पुत्र दलजीतसिंह जट सिख निवासी भारद्वाज स्कूल के पास वसंत नगर कोटकपुरा पुलिस थाना कोटकपुरा जिला फरीदकोट पंजाब और मानाराम पुत्र आसुराम विश्नोई निवासी साहुओं की ढाणी सिवाङ़ा के रूप में बताई। पुलिस के अनुसार यह बाड़ा मानाराम ने स्वयं का बताया। पुलिस पूछताछ में ट्रकों से कोयला चोरी कर यहां स्टॉक करने की बात सामने आई।

पुलिस के अनुसार कोयला चोरी करने के बाद यहां स्टॉक किया जाता था और उसके बाद कोयले में राख मिलावट कर कोयले का बेचान किया जाता है। ट्रेलर चालकों द्वारा मानाराम विश्नोई के साथ मिलीभगत कर सरहद सिवाङ़ा मेें ट्रैलर के तिरपाल व रस्सों पर लगी कम्पनी की सील तोड़कर मालिक की सहमति के बिना ट्रैलर में से कोयला चुराने की नियत से कोयला खाली करना पाया गया।

जिस पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू की। प्रकरण में दोनों टे्रलर भी जब्त किए गए। पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि मूंदड़ा पोर्ट (गुजरात) से ट्रैलर में लोड होने के बाद यह कोयला पंजाब समेत अन्य स्थानों तक पहुंचता था। इस बीच सांठ गांठ के चलते बीच में ही कोयला को डंप कर उसमें राख मिलावट कर दी जाती थी।

एक तरफ ट्रक चालक इससे फायदा कमाते थे। दूसरी तरफ स्थानीय आरोपी भी इस कोयले से दोगुनी कमाई करता था। पुलिस अभी मामले में पड़ताल कर रही है। मामले में अब तक हुए गड़बड़ झाले और इस मिलावट में कौन कौन और कहां कहां आरोपी शरीक है। इस संबंध में जांच कर रही है। लेकिन सीधे तौर पर गुणवत्ता युक्त कोयले में राख मिलावट कर उससे फायदा उठाने का प्रकरण जरुर है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.