सोशल मीडिया पर टिप्पणी को लेकर देवासी समाज के दो बड़े नेता आमने-सामने

सोशल मीडिया पर टिप्पणी को लेकर देवासी समाज के दो बड़े नेता आमने-सामने
Spread the love


 

  • हाथरस कथित गैंगरेप को लेकर प्रियंका गांधी के वीडियो पर भाजपा नेता की अभद्र टिप्पणी

  • कांग्रेस नेता हीरा देवासी भालनी ने भाजपा नेता की टिप्पणी का किया कटाक्ष

जालोर

 

देशभर में फिलहाल सभी मीडिया चैनल्स और अखबरों की सुर्खियों में हाथरस कथित गैंगरेप का मुदï्दा छाया हुआ है। इसी कड़ी में सोशल मीडिया पर भी पीडि़ता को न्याय दिलवाने की मुहिम छेड़ रखी है। विपक्ष के कई नेता पीडि़ता के घर पहुंचने को कोशिश में लगे है तो कई सोशल मीडिया के माध्यम से सत्तापक्ष पर हमला कर रहे है।

दरअसल, हाथरस कथित गैंगरेप को लेकर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने एक वीडियो बनाया से सोशल मीडिया में कई मंचों पर उपलोड किया गया। इस वीडियो को प्रियंका गांधी के कई फॉलोअर्स ने अपने अकाउंट पर अपलोड किया या फिर शेयर किया। फेसबुक पर अपलोड किए गए इस वीडियो पर भाजपा नेता, कोरा-नवापुरा सरपंच खेमराज देसाई ने प्रतिक्रिया देते हुए राजस्थान में हो रहे महिला उत्पीडऩ पर ध्यान खींचने की कोशिश की। लेकिन इस कोशिश में वे शब्दों की मर्यादा भूल गए और प्रियंका गांधी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर अभद्र टिप्पणी कर दी।

कांग्रेस नेता हीरा देवासी का कटाक्ष

कांग्रेस नेता हीरा देवासी भालनी ने भाजपा नेता व सरपंच खेमराज देसाई की टिप्पणी पर कटाक्ष करते हुए संस्कार याद दिलाए तथा ऐसी अमर्यादित भाषा से देवासी समाज को लज्जित करने का आरोप लगाया।

उन्होंने लिखा – ‘आदरणी खेमराज देसाई जी, मैं आपने नाम के आगे आदरणीय शब्द इसलिए लगा रहा हूं क्योंकि मैं और मेरी पार्टी अच्छे संस्कारों से सिंचित है। आपने अपनी टिप्पणी में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है, आपने देवासी समाज को लज्जित किया है।

Jalore News
सोशल मीडिया पर दोनों नेताओं द्वारा की गई टिप्पणी का स्क्रीन शॉट।

भाजपा नेता खेमराज देसाई टिप्पणी करना स्वीकारा

राजस्थान भारती ने जब भाजपा नेता की इस अमर्यादित टिप्पणी की सत्यता जांची तो, इनके नाम से एक फेसबुक आईडी और दूसरा फेसबुक पेज बना हुआ है। जो टिप्पणी की गई वह फेसबुक आईडी से की गई है। जिस फेसबुक आईडी से कमेंट किया गया उसकी सत्यता के लिए भाजपा नेता खेमराज देसाई से सम्पर्क किया गया। उन्होंने राजस्थान भारती से फोन पर बताया कि यह टिप्पणी उन्हीं ने की है, लेकिन मेरे ये अपशब्द इनके लिए नहीं है। हालांकि कमेंट पढऩे पर साफ जाहिर हो रहा है कि ये अमर्यादित शब्द किनके लिए इस्तेमाल हुए है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.